How to do HSRP online Registration free ? | HSRP Online Registration 2021 फ्री में कैसे करें?

HSRP online Registration free में कैसे करें?

Contents.....

दोस्तों, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में HSRP को अनिवार्य कर दिया गया है लेकिन अन्य राज्यों में इसे लेकर अभी कोई अनिवार्यता नहीं दिखाई गई है ऐसे में इन राज्यों में RTO के माध्यम से ग्राहक HSRP प्राप्त कर सकते हैं। आज की इस पोस्ट में हम जानेगे कि HSRP online Registration free में कैसे करें?

2021 में High Security Number Plates(hsrp) Online Registration कैसे करें? 

 हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट(HSRP)  वाहन सुरक्षा और सुविधा को ध्यान में रखकर बनाया गया है. ये प्लेट्स टेंपर प्रूफ होती हैं यानी इनके साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है। ऐसा दावा है कि HSRP नंबर प्लेट को बदलना काफी मुश्किल हैजिस वजह चोरी के वाहन ट्रैक करना आसान हो जाएगा।

 HSRP online Registration free

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट पर 7 अंकों का एक यूनीक लेजर कोड होता है जो हर नंबर प्लेट पर अलग-अलग होता है. इससे वाहन को आसानी से ट्रैक किया जा सकता है. इस नंबर प्लेट के कोने राउंड होंगे। HSRP किसी आम नंबर प्लेट से काफी अलग और ईजी एक्सेसेबल है।

 

HSRP online Registration free
हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट(HSRP)

 

जानें क्या है हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट ( HSRP )

हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट एल्युमीनियम की बनी होती है.  हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट (HSRP) एक क्रोमियम बेस्ड होलोग्राम है. इसमें गाड़ी का इंजनचेसिस नंबरवाहन मालिक का नामपता और रजिस्ट्रेशन की जानकारी छिपी होती है। ये ख़ास नंबर प्लेट नॉन यूजेबल लॉक से आपके वाहन के ऊपर लगा दी जाती है जिसे निकाला नहीं जा सकता है।

रजिस्ट्रेशन प्लेट के ऊपर बाएं कोने पर क्रोमियम आधारित अशोक चक्र अंकित होता है और IND लिखा होता है। ये होलोग्राम 20X20 mm का होता है। इस प्लेट के निचले बाएं कोने में एक 10-अंक का लेजर इंग्रेव्ड पिन (स्थायी पहचान संख्या) होता है। 

 High Security Registration Plates (HSRP) 

हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट(HSRP) पर वाहन मालिक का रजिस्ट्रेशन नंबर भी होता है. क्रोमियम प्लेटेड नंबर और इंबॉस होने से नंबर प्लेट को रात में कैमरे से नजर रखना संभव होता है।

हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट्स (HSRP)  क्यों वाहनों के लिए है जरूरी

वाहन चोरी की वारदातों पर लगाम कसने के इरादे से एचएसआरपी को लगाना अनिवार्य किया गया है। एचएसआरपी की मदद से चोरी हुए वाहनों को ट्रैक करने में आसानी होगी। पुराने रजिस्ट्रेशन प्लेट में नंबर स्टिकर होता था जिनके साथ आसानी से छेड़छाड़ की जा सकती है।

यातायात नियमों को तोड़ने पर उल्लंघन करने वालों को तुरंत पकड़ा जा सकेगा। कई वाहनों की नंबर प्लेट्स पर क्षेत्रीय भाषा में नंबर लिखे होते हैं जो हर किसी के समझ में नहीं आते हैं, ऐसे में अब हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट्स(HSRP) के रहते ऐसी चीजों पर पाबंदी लग सकेगी। सबसे अहम बात यह है कि वाहन संबंधी डाटा का डिजिटिलिकरण करने में सरकार को काफी मदद मिलेगी।

HSRP online Registration free

गाड़ियों पर हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट (HSRP) और कलर कोडेड स्टिकरलगवाना अनिवार्य है. नई गाड़ियों में ये चीजें शोरूम से लगकर मिलेंगी जबकि पुरानी गाड़ियों में ये चीजें लगवानी होगी.

 

 यह भी पढ़ें :

LPG गैस सिलेंडर बुकिंग के नए नियम

 

पुरानी गाड़ियों के लिये भी क्या HSRP जरूरी है?

पुराने वाहनों में भी एक जनवरी से हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट अनिवार्य कर दी गई है। एक अप्रैल 2019 और इसके बाद बनने वाले वाहनों में पहले से ही हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट अनिवार्य है।

 

वाहन की नंबर प्लेट पर “IND” शब्द क्यों लिखा जाता है?

भारत में प्रत्येक वाहन को मोटर वाहन अधिनियम 1989के तहत पंजीकृत किया जाता है. इन नंबर प्लेटों पर IND लिखा होता है. “IND” भारत का एक संक्षिप्त नाम है। हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट पर IND को होलोग्राम के साथ लिखा जाता है। 

IND” शब्द हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट्स की विशेषताओं का हिस्सा है, जो केंद्रीय मोटर वाहन नियम (Central Motor Vehicles Rules), 1989 में 2005 के संशोधन के भाग के रूप में पेश किया गया था. ये “IND” हाई सिक्योरिटी नंबर, RTO के रजिस्टर्ड नंबर प्लेट वेंडर के पास ही मिलता है.

 

जानें क्या होता है ‘भारत स्टेज-6’ यानी BS6  

भारत सरकार ने वर्ष 2000 में स्टैंडर्ड यूरोपीय मानदंडों को भारतीय अनुरूप में अपनाते हुए बीएस यानी ‘भारत स्टेज‘ की शुरुआत की। यह गाड़ियों से होने वाले प्रदूषण के उत्सर्जन का मानक है। इसे पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड वाहनों के लिए तय करता है।

भारत स्टेज – BS

BS यानी भारत स्टेज से पता चलता है कि आपकी गाड़ी कितना प्रदूषण फैलाती है. बीएस के जरिए ही भारत सरकार गाड़ियों के इंजन से निकलने वाले धुएं से होने वाले प्रदूषण को रेगुलेट करती है. BS के साथ जो नंबर होता है उससे ये पता चलता है कि इंजन कितना प्रदूषण फैलाता है. यानी जितना बड़ा नंबर उतना कम प्रदूषण.

BS6 के फायदे

BS-6 लागू होने के बाद प्रदूषण को लेकर पेट्रोल और डीजल कारों के बीच ज्‍यादा अंतर नहीं रह जाएगा. डीजल कारों से 68 फीसदी और पेट्रोल कारों से 25 फीसदी तक नाइट्रोजन ऑक्साइड का उत्सर्जन कम हो जाएगा.

HSRP online Registration free
HSRP online Registration free

 जानिए किस वाहन पर कौन से रंग का स्टीकर

कलर कोडेड स्टिकर में कार का फ्यूल टाइप और भारत स्टेज यानी इमिशन नॉर्म्स की जानकारी होती है। पेट्रोल और सीएनजी कारों के लिए हल्‍के नीले रंग का स्टिकर दिया जाता है, वहीं डीजल कारों के लिए नारंगी और इलेक्ट्रिक कारों के लिए हरे रंग का का स्टिकर मिलता है।

बीएस-6 कारों में स्टिकर के ऊपरी हिस्से में एक्सट्रा ग्रीन कलर की स्ट्रिप भी दी गई होती है। आपको गाड़ी की विंडस्क्रीन पर अंदर की ओर से इसे चिपकाना होता है। इसका मकसद वाहनों की दूर से ही पहचान सुनिश्चित करना है।

 

वाहन के लिए HSRP और कलर कोडेड स्टीकर कैसे प्राप्त कर सकते हैं

आपको राज्य सरकार द्वारा अधिकृत किसी भी वाहन डीलर से संपर्क करना होगा। होम डिलीवरी के लिए वेबसाइट पर आवेदन कर सकते हैं। प्रतिदिन 1,500 एचएसआरपी व कलर कोडेड स्टीकर की होम डिलीवरी की जा रही है। होम डिलीवरी में कार के लिए 250 रुपये व दोपहिया वाहन के लिए 125 रुपये का अतिरिक्त देना होता है।

एचएसआरपी की कीमत कितनी है?

इसकी कीमत राज्यों के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है। कार के लिए एचएसआरपी का शुल्क 600-1100 रुपये और दोपहिया वाहनों के लिए 300-400 रुपये है। यह शुल्क वाहन की श्रेणी के आधार पर भिन्न हो सकते हैं। 

 

क्या होता है कलर कोडेड स्टीकर ?

कलर कोडेड स्टिकर के लिए 100 रुपये का अतिरिक्त शुल्क देना पड़ता है या फिर इन प्लेट्स के साथ वह पहले से ही लगा हुआ आता है। हालांकि यदि आपकी गाड़ी पर एचएसआरपी पहले से ही इंस्टॉल है तो आपको केवल कलर कोडेड स्टिकर ही लगवाना पड़ेगा।

 

HSRP के लिए क्या दस्तावेज चाहिए होंगे?

आपको किसी भी प्रकार का दस्तावेज ऑफिशियल वेबसाइट पर अपलोड करने की जरूरत नहीं है। हालांकि ऑनलाइन अप्लाई करते समय आपको वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) अपने पास रखने की जरूरत पड़ेगी। यहां लिखी जानकारी आपको ऑनलाइन भरनी पड़ेगी।

 

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के लिए Online Registration कैसे करें
 

1. HSRP प्लेट की ऑनलाइन बुकिंग के पंजीकरण के लिए वाहन स्वामी को bookmyhsrp.com/index.aspx पर जाना होगा। यह साइट विशेष रूप से दिल्ली और उत्तर प्रदेश के लिए है। ये ऑनलाइन पोर्टल सरकार द्वारा ऑथराइज्ड हैं।

2. इसके बाद वाहनों की पूरी सीरीज खुलेगी, इसमें टू-व्हीलर, थ्री व्हीलर, फोर व्हीलर, भारी वाहन के विकल्प मिलेंगे, इनमें से किसी एक को चुनिए.

3. इसके बाद अपने वाहन के मॉडल का चयन करें। फिर आपकी गाड़ी किस कंपनी की है उसका चयन करना होगा, इसकी पूरी लिस्ट होगी, जैसे Maruti, Hyundai या Tata के विकल्प होंगे.

4. फिर अपने राज्य को स्थान के रूप में चुनें। गाड़ी की कंपनी का नाम चुनते ही ये आपसे राज्य पूछेगा। दो विकल्प हैं – दिल्ली और उत्तर प्रदेश, उदाहरण के लिए DL यानी दिल्ली और UP यानी उत्तर प्रदेश.

प्राइवेट वाहन और कमर्शियल वाहन

5. फिर आपको प्राइवेट वाहन और कमर्शियल वाहन के 2 विकल्प दिखाई देंगे एक निजी वाहनों के लिए, जो सफेद नंबर प्लेट वाले हैं, और दूसरे वाणिज्यिक वाहनों के लिए, पीले नंबर प्लेट वाले।. अगर आपका वाहन पर्सनल है तो व्हीकल क्लास में Non-Transport विकल्प चुनें।

HSRP online Registration free

6. प्राइवेट वाहन टैब पर क्लिक करने पर पेट्रोल, डीजल, इलेक्ट्रिक, CNG और CNG+पेट्रोल के विकल्प मिलेंगे, इनमें से किसी एक को चुन लीजिए.

7. इसके बाद आप से गाड़ी की पूरी जानकारी मांगी जाएगी, जैसे Bharat Stage (BS) कौन-सा है, रजिस्ट्रेशन की तारीख, रजिस्ट्रेशन नंबर, चेसिस नंबर, इंजन नंबर, गाड़ी मालिक का नाम, ई-मेल आईडी, मोबाइल नंबर, बिलिंग पता, शहर, अगर GST है तो जीएसटी नंबर दर्ज कर सकते हैं। इसके बाद “अगला / Next” बटन पर क्लिक करना होगा।

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट

8. आपको अपना एरिया पिन कोड डालना होगा, जिससे करीबी गाड़ी एजंसियों की डीटेल्स सामने आएंगी। अपनी सुविधानुसार एजंसी, अपॉइंटमेंट की तारीख और समय चुन लें। (किसी वजह से यदि तय समय पर वाहन मालिक हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवाने नहीं पहुंच पाते हैं तो भुगतान आईडी के जरिए दोबारा समय बुक कर सकते हैं। उन्हें शुल्क नहीं जमा करना होगा।)

9. सारी जानकारी अपलोड करने के बाद मोबाइल फोन पर OTP जेनरेट हो जाएगा. फिर अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर भेजे गए ओटीपी को सत्यापित करें।

10. सबसे आखिरी में पेमेंट का विकल्प आएगा. पेमेंट करते ही ऑनलाइन बुकिंग की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी. यहाँ आप अपने आर्डर का प्रिंट आउट भी ले सकते हैं.

11. इसके बाद आपको ई-मेल और एसएमएस के जरिए भुगतान की पर्ची मिलेगी। । आपको तय समय और तारीख पर जरूरी दस्तावेज लेकर अपने डीलर के पास जाना होगा और वाहन में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगा दी जाएगी। 

 *NOTE: इस बात का अवश्य ध्यान रखें कि अगर आप से जानकारी देने में कोइ गलती हो जाती है तो आपको 24 घंटे के अन्दर आर्डर को Cancel करना होगा . आपके खाते में 6 से 8 दिनों के बाद पैसा वापस आ जायेगा . लेकिन 24 घंटे के बाद आर्डर Cancel नहीं हो पायेगा .

अपने एचएसआरपी नंबर प्लेट स्थिति की जांच कैसे करें ?– How to Check HSRP Number Plate Status?

सभी नागरिक जिन्होंने एचएसआरपी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (HSRP Online Registration) किया है और पहले ही ऑनलाइन आवेदन कर चुके हैं, अब वे अपनी एचएसआरपी प्लेट की स्थिति ऑनलाइन देख सकते हैं। 

 आर्डर को track कैसे करें?

 1. आपको https://www.bookmyhsrp.com/TrackOrder.aspx  के वेब साईट पर जाना होगा.

2. Order Number और आपकी गाड़ी का नंबर यानि रजिस्ट्रेशन नंबर डालना होगा,

3. Captcha भरने के बाद Searchबटन पर क्लिक कर दें 

 

उम्मीद है आपको हमारी पोस्ट “HSRP online Registration free में कैसे करें? ” में दी गई जानकारी से जरूर लाभ मिलेगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो कृपया अपने मित्रों तथा परिवारजनों के साथ जरूर शेयर करें।

by Tripti Srivastava
मेरा नाम तृप्ति श्रीवास्तव है। मैं इस वेबसाइट की Verified Owner हूँ। मैं न्यूमरोलॉजिस्ट, ज्योतिषी और वास्तु शास्त्र विशेषज्ञ हूँ। मैंने रिसर्च करके बहुत ही आसान शब्दों में जानकारी देने की कोशिश की है। मेरा मुख्य उद्देश्य लोगों को सच्ची सलाह और मार्गदर्शन से खुशी प्रदान करना है।

Leave a Comment